हिन्दू जगे तो विश्व जगेगा Song Lyrics In Hindi & English (Download)

हिन्दू जगे तो विश्व जगेगा… RSS Geet Hindu Jage To Vishv Jagega, Maanav ka Vishvaas jagega mp3 song and video free download & get Lyrics in Hindi & English.

हिन्दू जगे तो विश्व जगेगा, मानव का विश्वास जगेगा… गीत

Hindu Jage To Vishva Jagega RSS Geet in Hindi

हिन्दू जगे तो विश्व जगेगा, मानव का विश्वास जगेगा।
भेदभावना तमस हटेगा, समरसता अमृत बरसेगा।
हिन्दू जगेगा, विश्व जगेगा।।ध्रु.।।

हर हिन्दू सदा से विश्व बन्धु है जड़ चेतन अपना माना है।
मानव पशु तरु गिरि सरिता में एक ब्रह्म को पहिचाना है।
जो चाहे जिस पथ से आये साधक केन्द्र बिन्दु पहुँचेगा।।1।। हिन्दू जगेगा……

इसी सत्य को विविध पक्ष से वेदों में हमने गाया था।
निकट बिठाकर इसी तत्व को उपनिषदों में समझाया था।
मंदिर मठ गुरुद्वारे जाकर यही ज्ञान सत्संग मिलेगा।।2।। हिन्दू जगेगा……

हिन्दू धर्म वह सिन्धु अतल है जिसमें सब धारा मिलती है।
धर्म अर्थ अरु काम मोक्ष की किरणें लहर-लहर खिलती है।
इसी पूर्ण में पूर्ण जगत का जीवन मधु सम्पूर्ण फलेगा।।3।। हिन्दू जगेगा……

इस पावन हिन्दुत्व सुधा की रक्षा प्राणों से करनी है।
जग को आर्य शील की शिक्षा निज जीवन से सिखलानी है।
द्वेष क्लेष भय सभी हटायें पान्चजन्य फिर से गुंजेगा।।4।। हिन्दू जगेगा……
।।समाप्त।।

विशेष
  • यह गीत ज्ञान गंगा प्रकाशन द्वारा प्रकाशित संघ गीत पुस्तिका के 18वें संस्करण के क्रम संख्या- 85 पृष्ठ क्रमांक- 92 पर अंकित है। गीत की लय के लिए गीत गंगा की वेब साइट पर भी विजिट कर सकते है।

Hindu Jage To Vishv Jagega Song Video Download

इस देशभक्ति से ओत प्रोत संघ की शाखाओं पर होने वाले गीत से बाल, तरूण और वृद्ध सभी को प्रेरणा मिलती हैं। हिन्दू जगे तो विश्व जगेगा गीत का अत्यन्त सुन्दर विडियो देखने व डाउनलोड़ करने के लिए निचे दिये गये विडियों पर क्लिक करें :-

Hindu Jage To Vishv Jagega Geet Lyrics in English

Hindu Jage To Vishv Jagega, Maanav ka Vishvaas jagega.
Bhedabhaavana Tamas Hatega, Samarasata Amrt Barasega.
Hindu Jagega, Vishv Jagega 
[Dhruv.]

Hindu Sada Se Vishva Bandhu Hai Jad Chetan Apna Maana Hai.
Maanav Pashu Taru Giri Sarita Mein Ek Brahm Ko Pahichaana Hai.
Jo Chaahe Jis Path Se Aaye Saadhak Kendr Bindu Pahunchega [1] Hindu Jagega…

isee Saty Ko Vividh Paksh Se Vedon Mein Hamane Gaaya Tha.
Nikat Bithaakar isee Tatv Ko Upanishadon Mein Samajhaaya Tha.
Mandir Math Gurudware Jaakar Yahee Gyaan Satsang Milega [2] Hindu Jagega…

Hindu Dharm Vah Sindhu Atal Hai Jisamen Sab Dhaara Milatee Hai.
Dharm Arth Aru Kaam Moksh Ki Kiranen Lahar-Lahar Khilatee Hai.
isee Poorn Mein Purn Jagat Ka Jeevan Madhu Sampoorn Phalega [3] Hindu Jagega…

is Pavan Hindutv Sudha Kee Raksha Praanon Se Karanee Hai.
Jag Ko Aary Sheel Ki Shiksha Nij Jeevan Se Sikhalaanee Hai.
Dvesh Klesh Bhay Sabhee Hataayen Paanchajany Phir Se Gunjega [4] Hindu Jagega…[THE END]

Hindu Jage To Vishva Jagega Sangh Geet Lyrics
Note
  • RSS Hindu Jagran Geet “Hindu Jage To Vishv Jagega” mp3 song for free download. We will provide you an HD quality mp3 download link as soon as possible.

मकर संक्रांति उत्सव गीत (Makar Sankranti Song) RSS

इस हिन्दू जागरण गीत को विशेष उत्सवों, कार्यक्रमों एवं दैनिक संघ की शाखा पर भी गाया जाता है। परन्तु इस गीत को अधिकांशतः एकल गीत (भाव गीत या काव्य गीत) के रूप में मकर संक्रांति उत्सव पर गया जाता है।

इस गीत के अतिरिक्त निम्न (Makar Sankranti Geet) गीत भी मकर संक्रांति के उत्सव पर करवाए जाते है :-

  1. अरूणोदय हो चुका वीर…
  2. करवट बदल रहा है देखो, भारत का…
  3. हिम शीत गया है बीत किन्तु…
  4. लक्ष्य तक पहुँचे बिना पथ में पथिक…
ऐसे और अच्छे-अच्छे गीतों की जानकारी के लिए जुडे़ रहिये RSS WORLD WIDE .COM से धन्यवाद...

हिन्दु युवकों आज का युगधर्म Geet Lyrics – Hindu Song Mp3 Download

Hindu Yuvko Aaj Ka Yugdharma – Sangh Geet (Kavya Geet Laya)

 

हिन्दु युवकों आज का युगधर्म
हिन्दु युवकों आज का युगधर्म शक्ति उपासना है ।।ध्रु.।।

बस बहुत अब हो चुकी है शांति की चर्चा यहाँ पर,
हो चुकी अति ही अहिंसा-तत्व की अर्चा यहाँ पर,
ये मधुर सिद्धांत रक्षा देश की पर कर ना पाये,
ऐतिहासिक सत्य है, यह सत्य अब पहिचानना है ।।1।। हिन्दु युवकों…

हम चले थे विश्व भर को, शांति का सन्देश देने,
किन्तु जिसको बन्धु समझा, आ गया वह प्राण लेने,
शक्ति की हमने उपेक्षा, की उसी का दण्ड पाया,
यह प्रकृति का ही नियम है अब हमें यह जानना है ।।2।। हिन्दु युवकों…

जग नहीं सुनता कभी दुर्बल जनों का शांति प्रवचन,
सिर झुकाता है उसे जो, कर सके रिपु मान मर्दन,
हृदय में हो प्रेम लेकिन, शक्ति भी कर में प्रबल हो,
यह सफलता मन्त्र है करना इसी की साधना है ।।3।। हिन्दु युवकों…

यह न भूलो इस जगत में सब नहीं है संत मानव,
व्यक्ति भी है राष्ट्र भी है जो प्रकृति के घोर दानव,
दुष्ट-दानव दमनकारी शक्ति का संचय करें हम,
आज पीड़ित मातृ-भूमि की बस यही आराधना है ।।4।। हिन्दु युवकों…

 

 

हिन्दू साम्राज्य दिवस पर इस गीत को काव्य गीत के रूप में उपयोग किया जा सकता है। यह गीत ज्ञान गंगा प्रकाशन द्वारा प्रकाशित संघ गीत पुस्तिका के 18वें संस्करण के 53 क्रमांक पर पृष्ठ संख्या 62 पर अंकित है। गीत की लय के लिए गीतगंगा की वेब साइट पर भी विजिट कर सकते है।